Jul 24, 2009

सूरज पर चलते हैं

संता (बंता से)- बंता चलो हम लोग सूरज पर चलते हैं।

बंता (संता से)- संता भाई तुम ठीक तो हो? क्या तुम्हें पता नहीं सूरज कितना गर्म है, हम वहां तक पहुंच भी नहीं पाएंगे।

संता- अरे बंता तुम भी बिलकुल मूर्ख हो, हम दिन में नहीं रात में जाएंगे।

0 Comments:

Post a Comment

Links to this post:

Create a Link

<< Home